जर्मनी के गॉटिंगेन में 1832 में कार्ल फ्रेडरिक गॉस द्वारा पहली चुंबकीय वेधशाला की स्थापना के पश्चात्, वेधशालाओं के नेटवर्क की स्थापना यूरोप, कनाडा, दक्षिण अफ्रीका, ऑस्ट्रेलिया, भारत, सिंगापुर, रूस, चीन में फैली है जो कि 5 मिनट के अंतरालों पर मापनों को दर्ज करता है। 1841 तक 53 वेधशालाओं का एक विश्वव्यापी नेटवर्क क्रियाशील था, जो कि अगली सदी के दौरान बढ़ गया। ये वेधशालाएँ पृथ्वी के क्रोड़, आयनमंडल, चुंबक मंडल में परिवर्तनों के अध्ययन के लिए प्रत्येक स्थान पर भूचुंबकीय क्षेत्र के बदलावों और झुकाव तथा दिक्पात के निरपेक्ष मानों को दर्ज करती हैं। संस्थान की स्थापना के तीन साल बाद 1964 में, एनजीआरआई की चुंबकीय वेधशाला (एच वाई बी) को प्रवर्तन में लाया गया था। वैश्विक इंटरमैग्नेट वेधशाला नेटवर्क के भाग के रूप में, यह 1 मिनट एवं 1 सेकंड तीन घटक परिवर्तन डाटा (वास्तविक समय के निकट) और साथ ही निरपेक्ष आधार-रेखाएँ (वार्षिक) उपलब्ध कराती है। विशेष परिघटना का अध्ययन करने के लिए 65 किलोमीटर दूर चौटुप्पल परिसर में एक और वेधशाला स्थापित की गई है। प्रेरण प्रतिक्रियाओं और भूमध्य आयनमंडलीय परिघटनाओं के अध्ययन के दोहरे प्रयोजनों के लिए कन्याकुमारी, लक्षद्वीप और अंडमान-निकोबार में अतिरिक्त प्रेक्षण स्थलों की स्थापना की गई है।

ये वेधशालाएँ 0.001 से 0.01 एनटी के साथ भूचुंबकीय क्षेत्र के परिवर्तनों को दर्ज करने और वैश्विक वैज्ञानिक समुदाय को वास्तविक-काल डाटा प्रसारण करने के लिए उच्च पुरस्सरण सदिश एवं निरपेक्ष अदिश चुंबकत्वमापियों का उत्पादन करती हैं और यह वेधशाला 3-घटक परिवर्तन एवं आधार-रेखा अभिलेखों, के-सूचियाँ, प्रधान चुंबकीय तूफान एवं भूचुंबकीय क्षेत्र की लघु अवधि घटनाओं के ऐतिहासिक (50 वर्षों से अधिक) आकड़ों और 30 वर्षों से अधिक परा निम्न आवृत्ति चुंबकीय अभिलेखों तथा कई दशकों के भूमध्य क्षेत्र में भू-धारा अभिलेखों का लेखागार है। दिक्पात-झुकाव और प्रोटॉन पुरस्सरण चुंबकत्वमापियों के लिए अंशांकन सुविधा है। भूमध्य अक्षांशों पर आयनमंडलीय परिवर्तनशीलता पर अनुसंधान, भूमि एवं उपग्रह से स्पंदन प्रतिमान और अंडमान-निकोबार में प्रेरण अध्ययन हाल ही में किए गए हैं।

 

नाम पदनाम
डॉ. कुसुमिता अरोरा प्रधान वैज्ञानिक
श्री चन्द्रशेखर राव के वरिष्ठ तकनीकी अधिकारी (3)
श्री फणिचन्द्र शेखर एन तकनीकी अधिकारी
श्रीमती मंजुला एल तकनीकी सहायक
श्री गट्टय्या सी.एच मल्टी टास्किंग स्टाफ

 

पृष्ठ अंतिम अपडेट : 06-05-2019